Four Doubts You Should Clarify About Corona In Hindi

0
477

चार संदेह आपको कोरोना के बारे में स्पष्ट करना चाहिए।

Four Doubts You Should Clarify About Corona |जैसा की हम सब जानते है। नोवेल कोरोनो वायरस को एक महामारी घोषित कर  दिया गया है।  दुनिया भर के कई देश नोवेल कोरोनो वायरस की चपेट में आ चुके है। दुनिया भर में कई लोग इस वायरस से अपनी जान गवा चुके है। और लगातार मौते हो रही है। भारत भी इसकी चपेट  है। अब तक 3  लोगो की मौत नोवेल कोरोनो वायरस से भारत में हो चुकी है। देश के कई राज्यों में इसके मरीज पाए जा रहे है। भारत में अब तक नोवेल कोरोनो वायरस से इफेक्टेड लोगो का आकड़ा 130 से ऊपर निकल चुका है। और लगातार नए मामले सामने आ रहे है। महारास्ट्र में नोवेल कोरोनो वायरस का सबसे ज्यादा असर देखने को मिल रहा है।

भारत सरकार राज्य सरकारों के साथ मिलकर निरंतर इस महामारी पर नज़र रखे हुए है। सभी जरुरी कदम उठाये जा रहे है। स्कूल,कॉलेज ,सिनेमा आदि को बंद कर दिया गया है। सामूहिक समारोह पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया है। विदेश से आने वालो पर निगरानी की जा रही है।

Also Read :How to take care skin in summer season in Hindi | 10 skin care tips in summer

जिस तरह से ये नोवेल कोरोनो वायरस दुनिया भर में फेल रहा है। वैसे दुनिया भर के वैज्ञानिक इसका इलाज खोजने में दिन रात जुटे हुए है अभी तक इस वायरस का कोई इलाज नहीं ढूंढा गया है। लेकिन डॉक्टर अन्य दवाओं से इसका इलाज कर रहे है। और उन्हें कुछ सफलता भी मिल रही है। लकिन नोवेल कोरोनो वायरस को ले कर कई तरह की अफवाहे भी फैलती जा रही है। सोशल मीडिया और इंटरनेट पर कई तरह की भ्रांतियां फेल रही है लोग नोवेल कोरोनो वायरस  बचने या इलाज के अजीब अजीब उपाए बातये जा रहे है। जिनसे सावधान रहना बहुत जरुरी है।

आज हम आपको इन्ही भ्रांतियों से सचेत करने जा रहे है। साथ साथ  इन भ्रांतियों के पीछे की सच्चाई बताने जा रहे है। तो आइये जानते है नोवेल कोरोनो वायरस भ्रांतियों की सच्चाई।

1. क्या आम एंटीबायोटिक्स दवाओ से नोवेल कोरोनो वायरस  ठीक हो सकता है।

Four Doubts You Should Clarify About Corona | ये भ्रान्ति नोवेल कोरोनो वायरस में बहुत ज्यादा फैली हुई। लेकिन ये जान ले की कोरोना वायरस म्‍यूटेटेड वायरस होता है। एंटी बायोटिक्स सिर्फ बैक्टीरिया को मारने में सक्षम होते हैं वायरस को मारने में एंटी बायोटिक्स सक्षम नहीं होते है। क्‍योंकि ये  जीवाणु रोधी होते हैं  इसलिए एंटी बायोटिक्स से बचा तो जाता है। लेकिन अगर वायरस के साथ-साथ ही आपको सेकेंड्री इंफेक्‍शन हो, तो आप इन दवाओं का सेवन कर सकते हैं।

2. क्या  न्यूमोनिया के टीके नोवेल कोरोनो वायरस से बचा सकते हैं

Four Doubts You Should Clarify About Corona | न्यूमोनिया के टीके ये आपको केवल निमोनिया बैक्टीरिया से ही बचाते हैं। निमोनिया वायरस या बैक्टीरिया के माध्यम से होता  है। न्यूमोनिया के टीके विशेष रूप से निमोनिया के लिए ही काम करते हैं। इस लिए ये टीके का संबंध कोरोनावायरस से नहीं होता है।इस लिए ये न्यूमोनिया के टीके नोवेल कोरोनो वायरससे नहीं बचा सकते।

3. क्या कोरोनावायरस जानवरों के मांस से भी फैलता है

Four Doubts You Should Clarify About Corona | नोवेल कोरोनो वायरस मांस के माध्यम  फैलता है। मांस के खाने से कोई नुक्सान नहीं है। ना ही इससे कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं है। लेकिन ये ध्यान रखना बहुत जरुरी है। की मांस अच्छी तरह से पका होना चाहिए। कच्चा मांस का सेवन बिलकुल भी नहीं किया जाना चाहिए।

4. क्या लहसुन  से कोरोना वायरस का इलाज किया जा सकता है

Four Doubts You Should Clarify About Corona | लहसुन एंटीऑक्सिडेंट गुण होते है। इस लिए ये आपके शरीर की रोग प्रतिरोध प्रणाली को मजबूत करता है। लेकिन ये कहना की लहसुन से कोरोना वायरस का इलाज किया जा सकता है ये पूरी तरह से तर्कहीन बात है। कोरोना वायरस का इलाज लहसुन  किया जा सकता।

Also Read : Apple benefits and side effects in Hindi

Four Doubts You Should Clarify About Corona

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here